Monday, June 13, 2011

अपना प्यारा जहां

कहाँ और कैसे
मिला था तुझे
ये भण्डार
जिसे तू
बांटता रहा
पल-पल
फिर भी
जो अब तक
कभी ख़त्म
न हो सका,
किस मोड़ पे
दबा पाया था
तूने ये ख़ज़ाना
जिसे तू
दिल खोल कर
लुटाता रहा हरदम
फिर भी जो अब तक
ज़रा
कम न हो सका,
क्योंकर
चला था तू उधर
कैसे
पहुँचा था तू वहाँ?
कैसा था वो नगर
कैसा था वो जहां?
हो सके तो
कर ज़रा
मुझे भी इशारा
दे सके तो दे
मुझे भी उस
नगर का ठिकाना
ताकि आ सकूँ
मैं भी वहाँ
और पा सकूँ
मैं भी वहाँ
सदियों से बिछ्ड़ा
अपना प्यारा जहां
अपना
प्यारा जहां...

1 comment: