Sunday, December 27, 2009

अचानक

अचानक मेरे दिल को क्या हो गया है
अभी तो यहीं था कहाँ खो गया है

कि बैठा था मैं तो तेरी जुस्तजू में
न जाने ये गुमसुम किधर को गया है

मेरे साथ होता है हरदम यही क्यों
तेरी ओर आऊँ तो ये खो गया है

तेरी आरज़ू अब मेरी ज़िन्दगी है
जहां में भटकते कहाँ खो गया है

तेरे प्यार के गीत हरदम सुनूँ मैं
तेरा नाम अब दिलरुबा हो गया है

ये निर्मल तुम्हारे करम का नतीजा
कि मेरे गुनाहों को कुछ धो गया है

4 comments:

  1. बहुत उम्दा!!



    यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि आप हिंदी में सार्थक लेखन कर रहे हैं।

    हिन्दी के प्रसार एवं प्रचार में आपका योगदान सराहनीय है.

    मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं.

    निवेदन है कि नए लोगों को जोड़ें एवं पुरानों को प्रोत्साहित करें - यही हिंदी की सच्ची सेवा है।

    एक नया हिंदी चिट्ठा किसी नए व्यक्ति से भी शुरू करवाएँ और हिंदी चिट्ठों की संख्या बढ़ाने और विविधता प्रदान करने में योगदान करें।

    आपका साधुवाद!!

    शुभकामनाएँ!

    समीर लाल
    उड़न तश्तरी

    ReplyDelete
  2. ਬਈ ਜੀ ਕਮਾਲ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਤੁਸਾਂ ਨੇ ਤਾਂ..भाई साहिब जी कमाल कर दिया आपने तो...
    शौचालय से सोचालय तक

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छा लिखा है आपने..मेरी शुभकामनायें

    ReplyDelete